:: Heavy Water Board - A unit under Department of Atomic Energy, Govt. of India.

English Version

डॉ. यू. कामाची मुदली का जीवनवृत्‍त

डॉ. यू. कामाची मुदली, उत्‍कृष्‍ट वैज्ञानिक ने परमाणु ऊर्जा विभाग की औद्योगिक इकाई भारी पानी बोर्ड के अध्‍यक्ष एवं मुख्‍य कार्यकारी का पदभार ग्रहण किया है । मुख्‍य कार्यकारी के रूप में श्री मुदली, बड़ौदा, तूतीकोरिन, तालचेर, कोटा, मणुगूरु, थल एवं हजीरा स्थित सात भारी पानी संयंत्रों के सुचारु एवं दक्षतापूर्ण प्रचालन के लिए उत्‍तरदायी हैं ।  इसके साथ-साथ वे भारतीय नाभिकीय विद्युत कार्यक्रम के द्वितीय चरण की आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए बोर्ड की विविधीकृत गतिविधियों के लिए भी उत्‍तरदायी हैं ।

इसके पूर्व डॉ. मुदली, इंगांपअके, कल्‍पाक्‍कम में मटेरियल केमिस्‍ट्री एवं मेटल फ्यूल साइकिल ग्रुप के निदेशक के पद पर पदस्‍थ थे । वे आईआईटी बॉम्‍बे के पूर्व विद्यार्थी हैं । उन्‍होंने अपना एम.टेक. पूरा करने के बाद 1984 में इंगांपअके, कल्‍पाक्‍कम में ज्‍वाइन किया । डॉ. मुदली, पदार्थ एवं संक्षारण के क्षेत्र में एक प्रख्‍यात वैज्ञानिक हैं । इन्‍हें द्रुत प्रजनक रिएक्‍टरों (एफबीआर) एवं संबद्ध ईंधन पुन: प्रक्रिया अनुप्रयोगों के लिए प्रगत संक्षारण प्रतिरोध पदार्थ एवं लेपन प्रौद्योगिकियों के विकास के क्षेत्र में दिए गए बेहतरीन योगदान के लिए जाना जाता है । इसके अलावा, इन्‍होंने एफबीआर पुन: प्रक्रिया पदार्थ, मॉडलिंग एवं उपस्‍कर के अनुसंधान एवं विकास में भी बेहतरीन योगदान दिया है ।

डॉ. मुदली एएसएम इंटरनेशनल, यूएसए, एनएसीई इंटरनेशनल, यूएसए, एशिया पैसिफिक अॅकेडमी ऑफ मटेरियल्‍स, इंडियन नॅशनल अॅकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग, इंडियन इन्स्टिटयूट ऑफ मेटल्‍स, एकेडमी ऑफ साइंसेन्‍स, चेन्‍नई इन्स्टि्टयूशन ऑफ इंजीनियर्स (इंडिया) के फेलो हैं एवं इलेक्‍ट्रोकेमिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, आईआईएससी, बेंगलोर के मानद फेलो हैं ।

डॉ. मुदली के विभिन्‍न राष्‍ट्रीय एवं अंतरर्राष्‍ट्रीय जर्नलों में 425 से अधिक शोधपत्र प्रकाशित हुए हैं । इन्‍होंने 14 पुस्‍तकों/कार्यपद्धतियों के सह-संपादन और 33 एच-इंडेक्‍स का कार्य भी किया है । ये अवस्‍नातक, स्‍नातकोत्‍तर एवं पीएचडी डिग्री के 162 विद्यार्थियों के प्रोजेक्‍ट कार्यों के मार्गदर्शक / समन्‍वयक हैं ।  ये होमी भाभा राष्‍ट्रीय संस्‍थान (एचबीएनआई) के वरिष्‍ठ प्रोफेसर एवं पीएसजी इन्स्टिटयूट ऑफ अॅडवान्‍स स्‍टडीज, कोइंबतूर में सहायक प्रोफेसर हैं ।

उल्‍लेखनीय उपलब्धियों के लिए इनको विभिन्‍न अवार्ड एवं पुरस्‍कारों जैसे परमाणु ऊर्जा विभाग से होमी भाभा साइंस एवं प्रौद्योगिकी अवार्ड, आईएनएस मेडल, वास्विक अवार्ड, जीडी बिर्ला गोल्‍ड मेडल अवार्ड, स्‍टील मंत्रालय से नॅशनल मेटालर्जिस्‍ट डे अवार्ड, भारत सरकार एवं आईआईएम, एक्‍सलंस एवं एनएसीई इंडिया  एनसीसीआई एवं ईसीएसआई से संक्षारण में मेरिटोरियस अवार्ड, बेंगलोर, टीएनएससीएसटी चेन्‍नई से बेस्‍ट वैज्ञानिक अवार्ड, वोकेशनल एक्‍सलंस अवार्ड, चेन्‍नई, एचबीएनआई से विशिष्‍ट संकाय अवार्ड, मुंबई और आईएनएई-एआईसीटीई विशिष्‍ट विजिटिंग प्रोफेसरशिप के माध्‍यम से नवाजा गया है ।      

ये जर्मनी, जापान, यूके, फ्रांस, इस्‍त्रायल, बुल्‍गारिया इत्‍यादि में स्थित अग्रणी प्रयोगशाला के संस्‍थानों के  विजिटिंग वैज्ञानिक हैं । डॉ. मुदली जर्नल ऑफ इलेक्‍ट्रो केमिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सह-संपादक, मेटालर्जिकल एवं मटेरियल ट्रान्‍जॅक्‍शन-ए के मुख्‍य रीडर एवं सात अंतरर्राष्‍ट्रीय जर्नलों के संपादक मंडल के सदस्‍य हैं ।

 

 
दूरभाष (कार्यालय ) : (022) 25560870 / (022) 25486501
ईमेल - आई डी : kamachi@mum.hwb.gov.in / ce@mum.hwb.gov.in
:: Heavy Water Board - A unit under Department of Atomic Energy, Govt. of India.
सूचना का अधिकार अधिनियम -2005
अचल सम्पत्ति विवरण
संयंत्र - एक नज़र में
नई गतिविधियां
मूल्य संवर्धित सेवाएं
कार्पोरेट सदस्यताएं
निविदाए (10 लाख रुपये के ऊपर )
निविदाएं (10 लाख रुपये तक )
ई-टेंडरिंग पोर्टल
आर पी यू एम - क्रय आदेश
भर्ती
भर्ती परिणाम
अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
भारी पानी बोर्ड एवं संयंत्र के बारे में
अवकाश सूची
वेबसाईट मानचित्र
कॉपीराईट नीति
गोपनीयता नीति
प्रयोग करने संबंधी शर्ते
लिंकिंग नीति
अस्वीकरण
सम्पर्क करे
वेब सूचना प्रबंधक (कंटेंट प्रबंधक)
पुरस्कार और उपलब्धियां,  मील के पत्थर, प्रमुख घटना, प्रेस विज्ञप्ति
स्क्रीन रिडर

अन्य पऊवि इकाईयों से लिंक
आयोजन और मास समारोहों के स्थान पर भीड़ के प्रबंध के लिए नीति-योजना : एनडीएमए लिंक
सेंट्रल पब्लिक प्रोक्योरमेंट पोर्टल लिंक
india.gov.in

वेबसाइट परमाणु ऊर्जा विभाग, भारत सरकार की एक इकाई, भारी पानी बोर्ड की है तथा इस पर प्रकाशित सभी सामग्री का स्‍वामित्‍व तथा कॉपीराइट  संगठन का है ।© भारी पानी बोर्ड अंतिम कब अपडॆट किया गया

20 September,2017