पदनामित अधिकारियों का उत्‍तरदायित्‍व
महाप्रबंधक, भापासंम भारी पानी बोर्ड को रिपोर्ट करता है।

महाप्रबंधक, भापासंम यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है कि गतिविधियों और प्रक्रियाओं के प्रबंधन, प्रदर्शन और नियंत्रण के लिए आपूर्ति की गई उत्पाद विशिष्ट आवश्यकता को पूरा करता है । कार्यात्मक प्रमुख यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार हैं कि कार्यों को करने वाले अधिकृत कर्मचारी संगठनात्मक उद्देश्य से अच्छी तरह से अवगत हैं और इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए आवश्यक स्तर तक अपेक्षित सहायता प्रदान करते हैं

  • गुणवत्ता आश्वासन कार्यक्रम के प्रभावी कार्यान्वयन से संबंधित समस्याओं की पहचान करें और समाधान शुरूवात करें/सुझाएं ।
  • उपरोक्त के कार्यान्वयन और प्रभावशीलता की पुष्टि करें ।
  • सभी पहलुओं में उत्कृष्टता और पूर्णता को पूरा करने के लिए उपयुक्त स्तर पर संयंत्र स्थल पर सभी गतिविधियों की योजना बनाई, प्रदर्शन और समीक्षा की जाती है ।
  • भापासंम के उद्देश्यों को प्रभावी प्रदर्शन द्वारा उचित रूप से पूरा किया जाता है ।
  • पी.आर.सी/ओ.आर.सी. के लिए अध्यक्ष और सभी अनुभाग प्रमुखों के साथ संचालन की समीक्षा और इसकी अखंडता सुनिश्चित करता है ।
  • संयंत्र के निर्माण के साथ-साथ संयंत्र स्थल पर निर्माणाधीन परियोजनाओं की आवश्यकता को पूरा करने के लिए संसाधनों की उपलब्धता शेड्युल को पूरा करती है ।
  • पर्यावरणीय, गुणवत्ता, सुरक्षा और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रदर्शन में संयंत्र स्थल पर सभी गतिविधियों में आई.एस.ओ और एईआरबी मानकों की प्रभावी स्थापना और कार्यान्वयन।
  • क्यू.ए.पी और आई.एस.ओ. मानकों के लिए को-ऑर्डिनेटर्स को पदांकित/नामित करें ।
  • सभी प्रासंगिक नीतियों, H2S सुरक्षा और संयंत्र प्रबंधन के लिए भापाबो/एईआरबी द्वारा निर्धारित अन्य निर्देश और प्रक्रियाएं, और वैधानिक/विनियामक आवश्यकताओं को लागू करने के लिए जिम्मेदार है ।
  • गुणवत्ता आश्वासन गतिविधियों के कार्यान्वयन के लिए आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराना ।
  • पड़ोसी संगठनों, सार्वजनिक, राज्य और राष्ट्रीय स्तर के अधिकारियों के साथ पर्यावरण का विकास। वह यह भी सुनिश्चित करता है कि विभिन्न सार्वजनिक जागरूकता कार्यक्रमों/गतिविधियों के माध्यम से भारी पानी बोर्ड की जानकारी का प्रसार करें।
  • आवश्यक प्रशिक्षण और योग्यता के माध्यम से कर्मचारियों की योग्यता का विकास, रखरखाव और उन्नयन किया जाता है ।
  • वह संयंत्र स्थल पर सुरक्षा पहलुओं के लिए समग्र रूप से जिम्मेदार है और प्रभावी एवं कुशल कार्यान्वयन सुनिश्चित करता है ।
  • H2S आपातकालीन के दौरान राज्य और राष्ट्रीय स्तर के अधिकारियों के साथ समन्वय गतिविधियों के दौरान निर्णय लेना ।
  • वह सुनिश्चित करता है कि आपातकालीन तैयारियों के दौरान गतिविधियों को निष्पादित करने में प्रदर्शन मानकों को बनाए रखा जाता है ।

  • कर्मचारियों और उनके परिवारों के लिए कल्याणकारी और सामाजिक सहायता गतिविधियों को बढ़ावा देता है, जिससे उनका सामाजिक विकास हो । वह यह भी सुनिश्चित करता है कि कर्मचारियों और उनके परिवार का स्वास्थ्य पहलू उचित चिकित्सा सहायता, संसाधनों और सुविधाओं के माध्यम से मिले ।
  • शिक्षा मानकों में सुधार के लिए भापासं [मनुगुरु] हेतु AECS स्कूल का अध्यक्ष ।
  • भापासं [मनुगुरु] में एम.टी.ए. की गतिविधियों के दौरान उपकरण सुरक्षा और अखंडता को सुनिश्चित करता है ।
उप महाप्रबंधक (प्रोसेस)
  • उप महाप्रबंधक(प्रोसेस) महाप्रबंधक, भापासंम को रिपोर्ट करता है और अनुमोदित प्रक्रियाओं के अनुसार मुख्य संयंत्र/प्रणालियों के सुरक्षित और व्यवस्थित संचालन और रखरखाव के समन्वय के लिए जिम्मेदार है ।
  • संयंत्र के कर्मचारियों द्वारा तकनीकी विशिष्टताओं का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करना ।
  • रखरखाव कार्यों की सभी गतिविधियों में सुरक्षा कार्य परमिट प्रणाली सुनिश्चित करता है ।
  • इन-सर्विस निरीक्षण गतिविधियों की नियामक समीक्षा के लिए प्रस्तुत करने की व्यवस्था करें और संयंत्र से संबंधित नियामक अनुपालन सुनिश्चित करें ।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि कमियों, असामान्य घटनाओं और विभिन्न ऑडिट के निष्कर्षों को समय पर ढंग से दर्ज किया गया और सही किया गया और प्रभावी सुधारात्मक और निवारक कार्रवाइयों को लागू करना, जहाँ भी आवश्यक हो ।
  • उत्पाद की अनुरूपता प्राप्त करने के लिए अच्छी हाउसकीपिंग, कार्य वातावरण और सुविधाएं सुनिश्चित करना ।
  • मूल्य इंजीनियरिंग समिति (VEC) के अध्यक्ष के नाते आर.पी.यू.एम./क्र.भ.नि. के द्वारा वस्तुओं की खरीद के लिए मंजूरी देता है ।
  • अध्यक्ष तथा उपकरण के आउटेज को कम करने के लिए एम एंड ओ.एम का संचालन, एस.डब्ल्यू.जी. समिति की बैठक का आयोजन करना और उपकरणों के अखंडता पहलुओं को सुनिश्चित करना ।
  • मासिक आधार पर सुरक्षा पहलुओं की समीक्षा के लिए मुख्य संयंत्र में सुरक्षा समीक्षा समिति के अध्यक्ष ।
  • एमटीए की गतिविधियों को सुचारू रूप से और सुरक्षित रूप से निष्पादित करना ।
  • .

उप महाप्रबंधक (युटिलिटीज)
  • उप महाप्रबंधक [यूटिलिटीज] महाप्रबंधक, भापासंम को रिपोर्ट करता है और अनुमोदित प्रक्रियाओं के अनुसार सी.पी.पी. संयंत्र/सिस्टम के सुरक्षित और व्यवस्थित संचालन और रखरखाव के समन्वय के लिए जिम्मेदार है ।इसके अलावा, उनकी जिम्मेदारियों में निम्न भी शामिल हैं:
  • संयंत्र के कर्मचारियों द्वारा तकनीकी विशिष्टताओं का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करना ।
  • रखरखाव कार्यों की सभी गतिविधियों में सुरक्षा कार्य परमिट प्रणाली सुनिश्चित करता है ।
  • इन-सर्विस निरीक्षण गतिविधियों की नियामक समीक्षा के लिए प्रस्तुत करने की व्यवस्था करें और सी.पी.पी. संयंत्र से संबंधित नियामक अनुपालन सुनिश्चित करें ।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि कमियों, असामान्य घटनाओं और विभिन्न ऑडिट के निष्कर्षों को समय पर ढंग से दर्ज किया गया और सही किया गया और प्रभावी सुधारात्मक और निवारक कार्रवाइयों को लागू करना, जहाँ भी आवश्यक हो ।
  • उत्पाद की अनुरूपता प्राप्त करने के लिए अच्छी हाउसकीपिंग, कार्य वातावरण और सुविधाएं सुनिश्चित करना ।
  • यू.ओ.आर. समिति के अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण घटनाओं की मूल कारण जांचना और विश्लेषण करना और सुधारात्मक कार्यों का सुझाव देना ।
  • मूल्य इंजीनियरिंग समिति (VEC) के अध्यक्ष के नाते आर.पी.यू.एम./क्र.भ.नि. के द्वारा वस्तुओं की खरीद के लिए मंजूरी देता है ।
  • अध्यक्ष तथा उपकरण के आउटेज को कम करने के लिए एम एंड ओ.एम का संचालन, एस.डब्ल्यू.जी. समिति की बैठक का आयोजन करना और उपकरणों के अखंडता पहलुओं को सुनिश्चित करना ।
  • अध्यक्ष और समग्र सुरक्षा मुद्दों की समीक्षा करने के लिए सी.पी.पी. में एस.एस.सी. बैठकों का आयोजन करता है ।
  • सी.पी.पी. पर सामान्य स्टेशन शटडाउन जॉब्स की पहचान और उनका परीक्षण करता है ।
उप महाप्रबंधक (इंजीनियरी सेवाएँ)
  • उप महाप्रबंधक[ई.एस.] महाप्रबंधक को रिपोर्ट करता है, भापासंम अनुमोदित प्रक्रियाओं के अनुसार मुख्य संयंत्र और सी.पी.पी. संयंत्रों/प्रणालियों के सुरक्षित और व्यवस्थित संचालन और प्रदर्शन के लिए तकनीकी सेवाएँ देता है । संयंत्र के कर्मचारियों द्वारा तकनीकी विशिष्टताओं का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करना ।
  • नई परियोजनाओं/पूंजीगत योजनाओं के निष्पादन/निर्माण/ कमीशनन करना ।
  • भापासंम कॉलोनी सिविल और विद्युत अनुरक्षण गतिविधियों को सुनिश्चित करता है ।
  • भापासंम में सेवा निरीक्षणों की अखंडता सुनिश्चित करता है ।
  • भा.पा. बोर्ड केंद्रीय कार्यालय के साथ डिजाइन संबंधित मुद्दों को समन्वय कर हल करता है ।
  • यू.ओ.आर. समिति के अध्यक्ष, महत्वपूर्ण घटनाओं की मूल कारण की जांच और विश्लेषण करना और सी.पी.आर. एवं मुख्य संयंत्र दोनों के लिए केंद्रीय यू.ओ.आर. समिति के साथ समन्वय कर सुधारात्मक कार्रवाई का सुझाव देते हैं ।
  • मूल्य इंजीनियरिंग समिति (VEC) के अध्यक्ष के नाते आर.पी.यू.एम./क्र.भ.नि. के द्वारा वस्तुओं की खरीद के लिए मंजूरी देता है ।
  • नई परियोजनाओं/अस्पताल/बुनियादी ढांचे के निर्माण में संयंत्र बजट तैयार करता है ।
  • कॉलोनी में अस्पताल प्रबंधन गतिविधियों और स्वास्थ्यकर गतिविधियों को सुनिश्चित करता है ।
  • अध्यक्ष एल.एम.सी. समिति और सी.एम.सी., भा.पा.बोर्ड के साथ संपर्क करता है ।
उत्पादन प्रबंधक(प्रोसेसे) की जिम्मेदारियाँ
  • उत्पादन प्रबंधक(प्रोसेस) ग्रुप का प्रमुख होता है और उप महाप्रबंधक(प्रोसेस) को रिपोर्ट करता है।
  • पी.एम(पी) उत्पादन अनुभाग के क्यू.ए.पी. की सभी परिचालन गतिविधियों के लिए लेखा परीक्षक है और ऑडिट सिफारिशों के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है ।
  • स्वीकृत उद्देश्यों, प्रक्रियाओं और नीतियों के अनुसार तकनीकी विनिर्देश में निर्धारित सीमा और शर्तों के भीतर प्लांट/सिस्टम का सुरक्षित संचालन ।
  • पी.आर.सी. में प्रणालियों के संचालन में विचलन / कमियों की समीक्षा ।
  • यह सुनिश्चित करना कि पर्याप्त प्रशिक्षित और अधिकृत श्रमशक्ति प्रदान करके पारियों को कुशलतापूर्वक संचालित किया जाए ।
  • संयंत्र अपशिष्ट एफ्लुएंट प्रबंधन ।
  • निगरानी परीक्षण सहित ऑपरेटिंग मैनुअल और मानक संचालन प्रक्रियाओं का अद्यतन ।
  • सुनिश्चित करता है कि वर्क परमिट सिस्टम का पालन किया जा रहा है और नियमित रूप से वर्क परमिट सिस्टम प्रोग्राम की प्रभावशीलता की समीक्षा करें ।
  • वह सुनिश्चित करता है कि निगरानी और अन्य परिचालन गतिविधियों के लिए उपयुक्त अनुमोदित दस्तावेज उचित रूप से बनाए रखा जाए और उपयोगकर्ता को उपलब्ध कराया जाए ।
  • सुनिश्चित करें कि सभी ऑपरेशनल गतिविधियों का रिकॉर्ड और रिपोर्ट स्थापित प्रक्रिया के अनुसार बनाए रखी जाती है ।
  • मुख्य संयंत्र के एम एण्ड ओ.एम., एस.डब्ल्यूजी समिति का सदस्य का कार्य ।
उप उत्पादन प्रबंधक(पी) पी.एम.(प्रोसेसे) को रिपोर्ट करेंगे

(I) उत्पादन प्रोसेस का मुख्य कार्य निम्नवत है :

  • H2S-H2O आधारित द्वि-थर्मल समस्थानिक एक्चेंज़ यूनिट- I और II (गिर्ड्लर-सल्फाइड प्रक्रिया) और संबंधित सहायक इकाइयों का सुरक्षित संचालन ।
  • उत्पादन प्रक्रियाओं और तकनीकी विशिष्टताओं का अनुपालन सहित संचालन ।
  • विभिन्न आपूर्तिकर्ताओं से प्राप्त कच्चे माल, मध्यवर्ती उत्पाद, अंतिम उत्पाद और रसायन की गुणवत्ता नियंत्रण ।
  • स्टार्ट-अप, H2S चार्जिंग और रन-डाऊन ऑपरेशन ।
  • नियमित निगरानी जाँच करके महत्वपूर्ण उपकरणों की अच्छी स्थिति सुनिश्चित करना ।
  • H2S मॉनीटरन प्रणाली ।
  • रसायनों का क्रय एवं इनवेंटरी प्रबंधन ।
  • मेजर टर्न अराउंड के दौरान उपकरणों के लिए अखंडता परीक्षण ।
  • विभिन्न प्रक्रिया संचालन से जुड़े गुणवत्ता आश्वासन योजना का पालन ।
तकनीकी सेवा प्रबंधक (टी.एस.एम.) की जिम्मेदारियाँ :

तकनीकी सेवा प्रबंधक (टी.एस.एम.) तकनीकी सेवा अनुभाग का प्रमुख और उप महाप्रबंधक(ई.एस.) को रिपोर्ट करता है तथा उप टी.एस.एम.(पी/यू), प्रभारी (पी.सी. एण्ड ए.एल) और उप मुख्य अग्निशमन अधिकारी सहयोग प्राप्त करता है । टी.एस.एम. की जिम्मेदारियाँ इस प्रकार हैः –

  • पी.एम (पी), एम.एम (पी), पी.एम (यू), एम.एम (यू), प्रबंधक (एस एंड ई) और भंडार अधिकारी के समन्वय से भापासंम की गुणवत्ता आश्वासन योजना का कार्यान्वयन करना ।
  • संयंत्र की सुरक्षित और विश्वसनीय संचालन के लिए आवश्यक इंजीनियरिंग सहायता ।
  • सिस्टम/तकनीकी अध्ययनों के निष्पादन मानीटरन की विश्लेषण एवं समीक्षा और साप्ताहिक/ मासिक/वार्षिक रिपोर्टों द्वारा संयंत्र निष्पादन की समीक्षा ।
  • एच.डब्ल्यू.पी.एस.सी. समिति द्वारा अनुमोदित संशोधित अभ्यास के अनुसार इन-सर्विस निरीक्षणों की समीक्षा और निष्पादन ।
  • संयंत्र यू.ओ.आर. के विश्लेषण हेतु सदस्य-सचिव ।
  • प्रक्रिया रसायन नियंत्रण और उपलब्धता विश्लेषणात्मक उपकरणों की समीक्षा ।
  • डिजाइन, मैनुअल, ड्राइंग और ऑपरेटिंग फ्लो शीट्स आदि सहित संयंत्र तकनीकी प्रलेखनों का रखरखाव एवं अद्यतन ।
  • निष्पादन के बाद संशोधनों के प्रस्तावों और निष्पादन जाँच की समीक्षा ।
  • पी एंड आई आरेख और संशोधन/परियोजना के निष्पादन/कार्यान्वयन के बाद अन्य संयंत्र आरेखों में संशोधित करने की व्यवस्था ।
  • ISO: 9001: 2015 का आंतरिक/बाह्य आडिट का समन्वय करता है ।
उप टी.एस.एम.(पी) टी.एस.एम को रिपोर्ट करेंगे:

(I) मुख्य उद्देश्यः - संयंत्र निष्पादन/संशोधन कार्यान्वयन/यू.ओ.आर. विश्लेषण/प्रक्रिया समीक्षा गतिविधियों की समीक्षा करना ।

  • संयंत्र निष्पादन मानीटरन और विभिन्न आवधिक रिपोर्ट तैयार करना ।
  • मुख्य संयंत्र का प्लांट एजिंग मैनेजमेंट (आर.एल.ए.) ।
  • शेल और ट्यूब हीट एक्सचेंजर नेटवर्क के लिए हीट एक्सचेंजर्स फाउलिंग विश्लेषण ।
  • सी.टी और एच.टी पृथक्करण कारक आकलन ।
  • एल.एम.सी. सदस्य सचिव के रूप में: एल.एम.सी. (गठित संशोधन समिति)के माध्यम से विभिन्न अनुमोदित संशोधनों का कार्यान्वयन।
  • संशोधनों के साथ पी एण्ड आई आरेखों द्वारा तकनीकी विशिष्टताओं को अद्यतन करना ।
  • विभिन्न नई परियोजनाओं के निर्माण/कमीशन में शामिल गुणवत्ता पहलू ।
  • प्रिस(जी) गतिविधियों का मानीटरन और अद्यतन ।
  • बैठकें आयोजित करने और रिकॉर्ड रखने के लिए पी.आर.सी. को सदस्य सचिव ।
  • मुख्य संयंत्र में पूंजीगत योजनाओं का मानीटरन ।
उप टी.एस.एम.(यू) टी.एस.एम को रिपोर्ट करेंगे:

(I) मुख्य उद्देश्यः - संयंत्र निष्पादन/संशोधन कार्यान्वयन/यू.ओ.आर. विश्लेषण/प्रचालन समीक्षा गतिविधियों की समीक्षा करना ।

  • संयंत्र निष्पादन मानीटरन और विभिन्न आवधिक रिपोर्ट तैयार करना ।
  • एल.एम.टी.डी. विधि द्वारा कंडेनसर फाउलिंग विश्लेषण ।
  • को-जेनरेशन स्टीम चक्र के लिए हीट रेट की गणना ।
  • एल.एम.सी. सदस्य सचिव के रूप में: एल.एम.सी. (गठित संशोधन समिति)के माध्यम से विभिन्न अनुमोदित संशोधनों का कार्यान्वयन।
  • संयंत्र का प्लांट एजिंग मैनेजमेंट (बायलर एण्ड टर्बाइन का आर.एल.ए.) ।
  • प्रक्रिया रसायन विज्ञान, ऊर्जा संरक्षण मुद्दों और रेट्रोफिट संशोधनों द्वारा संचालन की समीक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करने के लिए विशेष रूप से चर्चा करने वाले सभी अनुभागों के साथ ओ.आर.सी. बैठक आयोजित करना ।
  • संशोधनों के साथ पी एण्ड आई आरेखों द्वारा तकनीकी विशिष्टताओं को अद्यतन करना ।
  • प्रिस(जी) गतिविधियों का मानीटरन और अद्यतन ।
  • बैठकें आयोजित करने और रिकॉर्ड रखने के लिए ओ.आर.सी. को सदस्य सचिव ।
  • सी.पी.पी. में पूंजीगत योजनाओं का मानीटरन ।
उप मुख्य अग्निशमन अधिकारी (डिप्टी सी.एफ.ओ.) टी.एस.एम को रिपोर्ट करेंगे:

(I) डिप्टी सी.एफ.ओ. की जिम्मेदारियाँ:

  • मुख्य सेवाओं में अग्नि नियंत्रण कक्ष [फायर अलार्म/डिटेक्शन एंड फायर एड्स रखरखाव] में अग्नि सुरक्षा का मानीटरन शामिल है ।
  • निरंतर आधार पर [दहनशील सामग्री] अग्नि जोखिम मूल्यांकन ।
  • पोर्टेबल फायर एक्सटिंग्विशर आधारित फायर लोड की पर्याप्तता सुनिश्चित करना ।
  • अनुमोदित कार्यक्रम के अनुसार अग्निशमन मॉक ड्रिल/बचाव ड्रिल/ऑन-साइट और ऑफ-साइट आपात स्थिति का आयोजन ।
  • प्लांट डोमेन में फायर कॉल, रेस्क्यू ऑपरेशन और विशेष कॉल का उत्तर देना ।
  • आग नियंत्रण उपकरणों और उपकरणों के अनुरक्षण और पुर्जों का प्रबंधन ।
  • सीमित स्थान के कार्यों के लिए अनुरक्षण और फ्लेर स्टैक निरीक्षण ।
  • पूरे संयंत्र की फायर वाटर सिस्टम की अखंडता और उपलब्धता सुनिश्चित करना ।
प्रबंधक (मानव संसाधन) डी.जी.एम.(ई.एस) को रिपोर्ट करेंगे:

(I) भापासंम पर प्रबंधक एच.आऱ.डी की जिम्मेदारियाँ:

डी.जी.एम.(ई.एस) को रिपोर्ट करते हुए प्रबंधक मानव संसाधन के रूप में कार्य करना ।

वैधानिक प्रशिक्षण आवश्यकताएँ:
  • नए शामिल श्रेणी-I एवं श्रेणी-II प्रशिक्षुओं को आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करना ।
  • सभी कर्मचारियों को समय-समय पर सुरक्षा, अग्नि सुरक्षा, उपकरण सुरक्षा और प्राथमिक चिकित्सा प्रशिक्षण से संबंधित सांविधिक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन ।
  • भापासं[मनुगुरु] में पी.एस.यू. के बारे में संशोधन और अद्यतन करना ।
प्राधिकरण की आवश्यकताएं:
  • ए.ई.आर.बी. के अनुसार संयंत्र के सुरक्षित संचालन के लिए प्राधिकरण ।
  • अनुरक्षण कर्मियों और सहायक सेवाओं (पीसी और एएल) के लिए क्यू.आई.एस.।
  • संचालन और अनुरक्षण कर्मियों के संयंत्र प्राधिकरण संबंधी रिकार्ड की रखरखाव ।
जागरूकता प्रशिक्षण कार्यक्रम:
  • आवश्यकता के अनुसार विशेषज्ञता के लिए बाहरी प्रशिक्षण कार्यक्रम करना ।
  • अपेक्स समिति के अनुमोदन से बाहरी प्रशिक्षण कार्यक्रमों की व्यवस्था करना ।
  • स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रमों की व्यवस्था करना ।

आसपास के शिक्षण संस्थानों के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन करना ।

अनुरक्षण प्रबंधक की जिम्मेदारियाँ: एम.एम.(प्रोसेस)

अनुरक्षण प्रबंधक अनुरक्षण ग्रुप के प्रमुख और डी.जी.एम.(प्रोसेस) को रिपोरट करते है ।

  • नियोजित निवारक/ब्रेकडाउन के रखरखाव, संयंत्र की सभी रखरखाव गतिविधियों में गुणवत्ता आश्वासन।
  • एम.एम.(पी) के रूप में अनुरक्षण (पी) ग्रुप की सभी अनुरक्षण गतिविधियों के लिए ऑडिटर है और ऑडिट सिफारिशों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है ।
  • पर्याप्त पुर्जों और उपभोग्य सामग्रियों का रखरखाव ।
  • संबंधित अधिकारियों द्वारा अनुमोदन के बाद सिस्टम में संशोधनों का कार्यान्वयन ।
  • अनुरक्षण प्रक्रियाओं का रखरखाव और अद्यतन ।
  • एम.एंडओ.एम के सदस्य, एस.डब्ल्यू.जी समिति और एमएंडओ.एम की मासिक रिपोर्ट तैयार करना।
  • संयंत्र के एजिंग प्रबंधन ।
  • अनुरक्षण प्रक्रियाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करता है और उन्हें मंजूरी देता है।
  • विभिन्न अनुरक्षण इकाइयों के बीच समन्वय ।
  • संयंत्र के सिस्टम, संरचना और घटकों की सठीकता सुनिश्चित करता है।
  • वैल्यू इंजीनियरिंग कमेटी (वी.ई.सी.) में सदस्य के रूप में भाग लेता है जो आर.आर.पी.यू.(RRPU)/क्र.भ.नि. के माध्यम से सामग्री क्रय हेतु इंडेंट को मंजूरी देता है।
  • वह डैमेज कंट्रोल ग्रुप के सदस्य हैं ।
उप.अनु.प्रबंधक(एम.पी.) की अध्यक्षता में अनुरक्षण (प्रोसेस) अनुभाग की गुणवत्ता आश्वासन :

(I) मैकेनिकल प्रोसेस के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं :

  • रोटेटिंग मशीनरी का निवारक अनुरक्षण ।
  • परिस्थिति आधारित अनुरक्षण ।
  • सुधारात्मक अनुरक्षण [कमी आधारित] ।
  • स्पेयर पार्ट्स प्रबंधन ।
  • भारोत्तोलन, क्रेन, होइस्ट्स, चैन पुल्ली का भार परीक्षण और टार्क्यू व्रेंचस का अंशांकन ।
  • मरम्मत और विरचना तथा मेज़र टर्नएराउंड अनुरक्षण ।
  • क्रय कार्यों और वर्क संबंधी ठेके के लिए गुणवत्ता आश्वासन योजनाओं को सुनिश्चित करना ।
उप.अनु.प्रबंधक (ई-पी) एम.एम.(पी) को रिपोर्ट करता हैः

(I) विद्युत प्रोसेस के मुख्य कार्य इस प्रकार हैं:

  • अनुसूची के अनुसार विद्युत मशीनों/बिजली प्रणालियों का निवारक अनुरक्षण ।
  • अनुसूची के अनुसार एसपीएम द्वारा विद्युत मशीनों (एचटी / एलटी मोटर्स) और थर्मोग्राफी द्वारा समाप्त मोटर टर्मिनल की स्थिति का मानीटरन ।
  • कमी रिपोर्ट/आर.एल.ए. अध्ययन के आधार पर सुधारात्मक अनुरक्षण ।
  • स्पेयर पार्ट्स प्रबंधन ।
  • एच.टी. केबलों अखंडता का सी.पी.आर.आई. द्वारा एजिंग के लिए परीक्षण / एम.टी.ए. के दौरान ज्वाइंटिंग, रिले परीक्षण और सेटिंग ।
  • बूस्टर मोटर्स ओवरहालिंग प्लस इलेक्ट्रिकल पैनल अनुरक्षण/ट्रांसफार्मर आयल की जांच/अर्थ पिट अनुरक्षण/आईपी-54 एनक्लोजर के अनुसार बाहरी उपकरण सुनिश्चित करना/लाइटनिंग प्रोटेक्शन सिस्टम अनुरक्षण ।
  • क्रय कार्यों और वर्क संबंधी ठेके के लिए गुणवत्ता आश्वासन को सुनिश्चित करना ।
उप.अनु.प्रबंधक (आई-पी) एम.एम.(पी) को रिपोर्ट करता हैः

(I) मुख्य उद्देश्य है- प्रोसेस संयंत्र उपकरणों का अनुरक्षण और अंतिम नियंत्रण । डी.सी.एस. सहित तत्वों का नीचे सूचीबद्ध गतिविधियों का पालन किया जाता है:

  • निवारक अनुरक्षण ।
  • परिस्थिति का मानीटरन ।
  • मरम्मत एवं अंशांकन ।
  • स्पेयर पार्ट्स प्रबंधन ।
  • मेजर टर्नएराउंड ।
  • डी.सी.एस. अनुरक्षण ।
  • नियंत्रण कक्ष के लिए हार्डवेयर अनुरक्षण द्वारा उपकरण लॉजिक निष्पादित करना ।
  • क्रय और वर्क ठेके में शामिल गुणवत्ता आश्वासन ।
प्रबंधक (एस एंड ई) महाप्रबंधक को रिपोर्ट करते है:

(I) प्रबंधक (सुरक्षा और पर्यावरण) की जिम्मेदारियां:

    महाप्रबंधक को रिपोर्ट करते है और निम्नलिखित के लिए जिम्मेदार हैः
  • संयंत्र, कर्मियों और पर्यावरण की सुरक्षा पर प्रबंधन को सलाह देना ।
  • प्रबंधक (एस एंड ई) क्यू.ए.पी. के संबंध में सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण की सभी गतिविधियों के लिए लेखा परीक्षक है और लेखा परीक्षा के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है ।
  • व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा पर सुरक्षा सेमिनार और अन्य प्रशिक्षण कार्यक्रमों में व्याख्यान देना ।
  • व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा पर बाहरी एजेंसियों के साथ संचार करना ।
  • भा.पा.बोर्ड केंद्रीय कार्यालय और ए.ई.आर.बी. के साथ संपर्क करना ।
  • दुर्घटना जांच और सुरक्षा संबंधित असामान्य घटना रिपोर्ट की तैयारी ।
  • सुरक्षा से संबंधित वस्तुओं और सुरक्षा स्मृति का क्रय ।
  • एक सदस्य सचिव के रूप में, सुरक्षा निगरानी समिति, संयंत्र सुरक्षा समिति का संचालन करना।
  • विभिन्न समितियों की लंबित सिफारिशों का अनुवर्ती कार्रवाई करना ।
  • सुरक्षा प्रचार गतिविधियों का समन्वय करना ।
  • सुरक्षा कार्य परमिट प्रणाली लागू करना और एस.डब्ल्यू.पी. का क्लीरेंस।
  • आर.पी.सी.बी. और सी.सी.ई. से सहमति लाइसेंस का नवीकरण और सहमति की शर्तों की समीक्षा करना और इसके कार्यान्वयन के लिए सभी संबंधित अनुभागों को सूचना देना ।
  • भापासं(म) पर लागू कानूनी सीमाओं के अनुपान की सूचना सभी संबंधित अनुभागों को देना ।
  • आंतरिक/बाहरी ऑडिटों को व्यवस्थित/समन्वित करता है आईएसओ: 14001/आईएसओ 18001.
  • संयंत्र के आवधिक ऑडिट और ऑडिट बिंदुओं की अनुपालन स्थिति को आईपीएसडी/एईआरबी को सूचित करना ।
  • अपेक्षित संख्या में बी.ए सेट और बी.ए शेल्टरों की उपलब्धता को सुनिश्चित करना और बनाए रखना ।
  • आपातकालीन योजना की पर्याप्तता सुनिश्चित करने के लिए समय-समय पर ऑन-साइट/ऑफ-साइट आपातकालीन अभ्यास आयोजित करना ।
  • ठेका श्रमिकों/कर्मचारियों/आगंतुकों/विक्रेताओं/नए कामर्स को सुरक्षा प्रशिक्षण प्रदान करना ।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी सुरक्षा प्रणालियाँ व्यवस्थित हैं और इसकी सुरक्षा प्रक्रियाओं का पालन/ एस.एस.सी. क्षेत्र का दौरा किया जाता है और मुख्य संयंत्र और सीपीपी के लिए मासिक समीक्षा बैठक करता है ।
  • भापासंम के आवश्यकतानुसार सुरक्षा उपकरणों/गैजेट्स को बनाए रखना ।
  • ऑफ-साइट आपातकाल के दौरान उचित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने के लिए ऑफ-साइट गांवों में सार्वजनिक आउटरीच कार्यक्रमों का संचालन करना ।
प्रभारी (पी.सी और ए.एल) TSM टी.एस.एम. को रिपोर्ट:

(I) पी.सी और ए.एल अनुभाग के मुख्य कार्य इस प्रकार हैं:

  • सिलिका, घुलित ऑक्सीजन, हाइड्रेंजिन, फॉस्फेट आदि विभिन्न मापदंडों के लिए रॉ वाटर ट्रीटमेंड प्लांट, डीएम प्लांट, कूलिंग वाटर सिस्टम, एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट और बॉयलर से प्राप्त नमूनों के लिए जल विश्लेषण।
  • इसमें मौजूद पदार्थों और अशुद्धियों की शुद्धता के लिए कच्चा माल और प्रक्रिया रसायन।
  • गैस और आवेषण की शुद्धता के परीक्षण के लिए एक्सचेंज यूनिट्स से सिस्टम और पर्ज गैस विश्लेषण ।
  • एक्सचेंज यूनिट्स और डी.यू. से नमूनों का समस्थानिक विश्लेषण ।
  • संयंत्र मैनुअल /अनुबंध में निर्दिष्ट के अनुसार अंतिम उत्पाद विश्लेषण के लिए आइसोटोपिक शुद्धता और pH जैसे अन्य मापदंडों, कन्डक्टिविटी, कार्बनिक पदार्थ और क्लोराइड ।
  • उत्पाद की गुणवत्ता में सुधार के लिए आवश्यक सुधारात्मक कार्रवाई के लिए निरंतर विश्लेषणात्मक परिणामों की रिपोर्ट करना ।
  • रसायनों और उपकरणों के क्रय में गुणवत्ता आश्वासन सुनिश्चित करना ।
उप अनुरक्षण प्रबंधक (सिविल) साइट और हाउसिंग कॉलोनी का अनुरक्षण,रिपोर्टिंग डी.जी.एम.(ई.एस):

(I). भापासंम में मुख्य कार्य / सेवाएं इस प्रकार हैं:

  • टावरों कंक्रीट संरचना/बूस्टर/उच्च रेटिंग उपकरण फाउडेशन/फ्लेयर स्टॉक/पाइपिंग रैक संरचना/ टी.जी बिल्डिंग/फ्लू गैस स्टॉक/ऐश पांड का निवारक अनुरक्षण ।
  • संरचनात्मक एजिंग प्रबंधन संबंधी स्थिति आधारित अनुरक्षण ।
  • फ्लू गैस स्टैक/फ्लेयर स्टैक/ ऐश पांड ।

  • एसिड सुविधा संरचनाओं/डी.एम प्लांट न्यूट्रलाइजेशन गड्ढों/ऐश पांड के सुधारात्मक अनुरक्षण ।
  • महत्वपूर्ण संरचनाओं के वर्गीकरण और अखंडता को बनाए रखने के आधार पर इन-सर्विस निरीक्षण ।
  • मुख्य रूप से पानी रेटाइनिंग सम्प्स/पांड/चैनलों/कूलिंग टावरों के बेसिन का ए.टी.ए. के दौरान अनुरक्षण ।
  • निर्माण सामग्री का प्रबंधन ।
  • सार्वजनिक भवनों/बुनियादी ढांचे के साथ कॉलोनी आवास के निवारक अनुरक्षण ।
  • कॉलोनी और ऑक्सीकरण पांड का अनुरक्षण और स्वच्छता की स्थिति को बनाए रखना ।
  • विनियामक आवश्यकताओं के अनुसार संयंत्र ग्रीनबेल्ट का रखरखाव ।
  • प्रापण और कार्य ठेकाओं में गुणवत्ता आश्वासन सुनिश्चित करना ।
उत्पादन प्रबंधक(युटिलिटीस) की जिम्मेदारियाँ:

उत्पादन प्रबंधक (यू) ऑपरेशन समूह के प्रमुख, डी.जी.एम [यु] को रिपोर्ट करते हैः

  • पी.एम (यू) ऑपरेशन समूह के QAP की सभी परिचालन गतिविधियों के लिए लेखा परीक्षक है और ऑडिट सिफारिशों के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है ।
  • तकनीकी विनिर्देश में निर्धारित सीमा और शर्तों के भीतर स्वीकृत उद्देश्यों, प्रक्रियाओं और नीतियों के अनुसार संयंत्र/सिस्टम का सुरक्षित संचालन ।
  • ओ.आर.सी. में सिस्टमों के संचालन में विचलन/कमियों की समीक्षा ।
  • यह सुनिश्चित करना कि पर्याप्त प्रशिक्षित और अधिकृत श्रमशक्ति प्रदान करके पारियों को कुशलतापूर्वक संचालित किया जाए ।
  • प्लांट वेस्ट एफ्लुएंट मैनेजमेंट ।
  • निगरानी परीक्षण प्रपत्र सहित ऑपरेटिंग मैनुअल और मानक संचालन प्रक्रियाओं को अद्यतन करना ।
  • निश्चित करता है कि वर्क परमिट सिस्टम का पालन किया जा रहा है और नियमित रूप से वर्क परमिट सिस्टम प्रोग्राम की प्रभावशीलता की समीक्षा करें ।
  • वह सुनिश्चित करता है कि निगरानी और अन्य परिचालन गतिविधियों के लिए उपयुक्त अनुमोदित दस्तावेज उचित रूप से बनाए रखा जाए और उपयोगकर्ता को उपलब्ध कराया जाए ।
  • सुनिश्चित करें कि सभी ऑपरेशनल गतिविधियों का रिकॉर्ड और रिपोर्ट स्थापित प्रक्रिया के अनुसार बनाए रखी जाती है ।
  • सी.पी.पी. की एम एंड ओ.एम, एस.डब्ल्यू.जी समिति में सदस्य ।
उप उत्पादन प्रबंधक(यू) पी.एम.(यू) को रिपोर्ट करते है

सी.पी.पी. ऑपरेशन के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं:

मुख्य संयंत्र प्रोसेस XU-I, II और अपशिष्ट स्ट्रिपिंग H2S को निरंतर गुणवत्ता वाले पावर और गुणवत्ता स्टीम की आपूर्ति करने के लिए कैप्टिव पावर प्लांट का सुरक्षित संचालन शामिल है।

  • उत्पादन प्रक्रिया और तकनीकी विशिष्टताओं के अनुपालन के साथ संचालन ।
  • स्टीम टरबाइनों को बॉयलर फीड वॉटर, ड्रम सिलिका नियंत्रण और भाप की गुणवत्ता का नियंत्रण।
  • प्रत्येक बॉयलर का स्टार्ट-अप उचित भट्ठी के मसौदे को बर्नर के साथ बनाए रखना और सुनिश्चित करना ।
  • सिस्टम लॉजिक्स प्रबंधन और मास्टर फ्यूअल ट्रिप की उपलब्धता सुनिश्चित करना ।
  • प्रत्येक टरबाइन रोलिंग का स्टॉटअप मैकेनिकल ट्रिप, कंडेनसर वैक्यूम गर्वनर नियंत्रण/ जनरेटर लाजिक के सिमुलेशन के बाद अंतर विस्तार को नियंत्रित करने के लिए वार्मिंग-अप के साथ सुनिश्चित करना ।
  • मुख्य संयंत्र को भाप और बिजली की आपूर्ति करने के लिए 2B + 2T मोड स्थिर राज्य संचालन ।
  • ग्रिड संयोजकता के साथ मुख्य संयंत्र और संयंत्र आइलांड पर स्क्रॉम संचालन के दौरान क्षणिक राज्य संचालन ।
  • नियमित निगरानी जाँच और विद्युत ऊर्जा के आयात और निर्यात की निगरानी करके महत्वपूर्ण उपकरणों की स्वस्थता सुनिश्चित करना ।
  • रसायन का प्रापण और वस्तुसूची प्रबंधन ।
  • मेजर टर्न अराउंड / आम शट डाउन के दौरान उपकरणों के लिए अखंडता परीक्षण ।
  • प्रापण और कार्य ठेकाओं में गुणवत्ता आश्वासन सुनिश्चित करना ।
अनुरक्षण प्रबंधक (युटिलिटीस)

अनुरक्षण प्रबंधक (यू) अनुरक्षण समूह के प्रमुख, डी.जी.एम [यू] को रिपोर्ट करते हैः

  • नियोजित निवारक / ब्रेकडाउन अनुरक्षण, संयंत्र की सभी अनुरक्षण गतिविधियों में गुणवत्ता आश्वासन ।
  • एम.एम (यू) अनुरक्षण (यू) समूह के QAP की सभी परिचालन गतिविधियों के लिए लेखा परीक्षक है ऑडिट सिफारिशों के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार है ।
  • पर्याप्त पुर्जों और उपभोग्य सामग्रियों का रखरखाव ।
  • संबंधित अधिकारियों द्वारा अनुमोदन के बाद सिस्टम में संशोधनों का कार्यान्वयन ।
  • अनुरक्षण प्रक्रियाओं का रखरखाव और अद्यतन ।
  • संयंत्र के एजिंग प्रबंधन ।
  • एम.एंड ओ.एम एस.डब्ल्यू.जी के सदस्य और एम एंड ओ एम की मासिक रिपोर्ट तैयार करना और भा.पा. बोर्ड एम.एंड ओ.एम ऑडिट के लिए सी.पी.पी. में अनुरक्षण गतिविधियों के लिए जिम्मेदार लेखा परीक्षक ।
  • अनुरक्षण प्रक्रियाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करता है और उन्हें मंजूरी देता है ।
  • विभिन्न अनुरक्षण इकाइयों के बीच समन्वय ।
  • वैल्यू इंजीनियरिंग कमेटी (वी.ई.सी.) में सदस्य के रूप में भाग लेता है जो आर.आर.पी.यू. (RRPU)/क्र.भ.नि. के माध्यम से सामग्री क्रय हेतु इंडेंट को मंजूरी देता है।
  • संयंत्र सामग्री की स्थिति की प्रभावशीलता सुनिश्चित करता है ।
  • वह डैमेज कंट्रोल ग्रुप के सदस्य हैं ।
उप अनु.प्रबंधक (एम-यू) एम.एम. (यू) रिपोर्ट :

(I) मैकेनिकल प्रोसेस के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं :

  • रोटेटिंग मशीनरी का निवारक अनुरक्षण ।
  • रोटोटिंग, पाइपिंग एवं वेसल के परिस्थिति आधारित अनुरक्षण ।
  • सुधारात्मक अनुरक्षण [कमी आधारित] ।
  • आई.सी.एच.पी. अनुरक्षण और संचालन ।
  • भारोत्तोलन, क्रेन, होइस्ट्स, चैन पुल्ली का भार परीक्षण और टार्क्यू व्रेंचस का अंशांकन ।
  • मरम्मत और विरचना तथा मेज़र टर्नएराउंड अनुरक्षण ।
  • आइ.बी.आर. प्रमाणीकरण द्वारा सैल्यूटरी ओवरहॉल स्टीम जनरेटर ।
  • स्पेयर पार्ट्स एवं वर्क ठेकाओं का प्रबंधन ।
  • क्रय कार्यों और वर्क संबंधी ठेके के लिए गुणवत्ता आश्वासन योजनाओं को सुनिश्चित करना ।
उप अनु.प्रबंधक (ई-यू) एम.एम. (यू) रिपोर्ट करता हैं:

विद्युत प्रोसेस के मुख्य कार्य निम्नानुसार हैं :

  • अनुसूची के अनुसार विद्युत मशीनों/बिजली प्रणालियों का निवारक अनुरक्षण ।
  • अनुसूची के अनुसार एसपीएम द्वारा विद्युत मशीनों (एचटी / एलटी मोटर्स) और थर्मोग्राफी द्वारा समाप्त मोटर टर्मिनल की स्थिति का मानीटरन ।
  • कमी रिपोर्ट/आर.एल.ए. अध्ययन के आधार पर सुधारात्मक अनुरक्षण ।
  • स्पेयर पार्ट्स प्रबंधन ।
  • एच.टी. केबलों अखंडता का सी.पी.आर.आई. द्वारा एजिंग के लिए परीक्षण / एम.टी.ए. के दौरान ज्वाइंटिंग, रिले परीक्षण और सेटिंग ।
  • मेजर टर्नाराउंड अनुरक्षण/जनरेटर्स, मोटर्स ओवरहालिंग, स्विचयार्ड, वी.एफ.डी. प्लस इलेक्ट्रिकल पैनल अनुरक्षण द्वारा कामन स्टेशन शटडाउन/ट्रांसफार्मर आयल की जांच/अर्थ पिट अनुरक्षण/आईपी-54 एनक्लोजर के अनुसार बाहरी उपकरण सुनिश्चित करना/लाइटनिंग प्रोटेक्शन सिस्टम अनुरक्षण ।
  • क्रय कार्यों और वर्क संबंधी ठेके के लिए गुणवत्ता आश्वासन को सुनिश्चित करना ।
उप अनु.प्रबंधक (आई-यू) एम.एम.(यू) को रिपोर्ट करता हैः

(I) मुख्य उद्देश्य है- सी.पी.पी. उपकरणों का अनुरक्षण और डी.सी.एस. सहित तत्वों का अंतिम नियंत्रण ।

  • निवारक अनुरक्षण ।
  • परिस्थिति का मानीटरन ।
  • महत्वपूर्ण और संरक्षा उपकरण अनुरक्षण ।
  • मरम्मत एवं अंशांकन ।
  • स्पेयर पार्ट्स प्रबंधन ।
  • कॉमन शटडाउन और यूनिट शटडाउन की सामान्य गतिविधियाँ ।
  • डी.सी.एस. अनुरक्षण ।
  • स्थानीय/नियंत्रण कक्ष के लिए हार्डवेयर अनुरक्षण द्वारा उपकरण लॉजिक निष्पादित करना ।
  • क्रय और वर्क ठेके में शामिल गुणवत्ता आश्वासन ।
भंडार अधिकारी, क्र.भ.नि रिपोर्ट जी.एम.

भापासं(म) पर क्र.भ.नि. भण्डार के मुख्य कार्य इस प्रकार हैं :

  • अनुभागीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सामान्य उपयोगकर्ता वस्तुओं की व्यवस्था ।
  • उपयोगकर्ता के साथ कार्यात्मक परीक्षण और भौतिक सत्यापन की सुविधा द्वारा ओ एंड ओ.एम आवश्यकताओं के लिए इन्वेंट्री की प्राप्ति करना ।
  • स्टॉक में 14 अंकों के कोड के साथ सामग्री की पहचान और संहिताकरण ।
  • सामग्री हैंडलिंग उपकरण का उपयोग करके रेसीट से लेकर स्टोरिंग स्थानों तक सामग्री हैंडलिंग सुरक्षित रूप से संभालना ।
  • आउटडोर/इनडोर/ए.सी कमरों की प्राथमिकता द्वारा इन्वेंट्री का आवंटन और नुकसान की रोकथाम/ सुरक्षित अभिरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक सावधानी बरतते हुए संरक्षित करना ।
  • नियमित समय अंतराल में डी.पी.एस. समितियों के आंतरिक समय पर सत्यापन / आंतरिक लेखा परीक्षा ।
  • स्पेयर पार्ट्स, वी.ई.डी. वर्गीकरण द्वारा प्रबंधन और एस.एम.आई. वार्षिक आधार की समीक्षा ।
  • सुरक्षा स्टॉक स्तर को बनाए रखना, वार्षिक खपत के आधार पर री-ऑर्डरिंग स्तर और मैक्सी स्तर ।
  • समग्र इन्वेंट्री स्थिति, ग्रुप वाइस स्थिति, एड वाइस [विभिन्न संयंत्रों] और एक महीने में प्रमुख मुद्दों/प्राप्तियों हेतु इन्वेंट्री मॉड्यूल द्वारा इन्वेंट्री प्रबंधन की सामान्य रिपोर्ट तैयार करना ।
  • क्रय और वर्क ठेके में गुणवत्ता आश्वासन सुनिश्चित करना ।

Last updated on: 05-Apr-2019